about ancient computers in hindi | प्राचीन कंप्यूटर के बारे में?

परिचय 

हेल्लो दोस्तों, आप सब कैसे है? हम आपको आज कंप्यूटर का इतिहास About ancient computers in hindi | प्राचीन कंप्यूटर के बारे में? के बारे में बताने जा रहे है, जैसे ही आपको पता होगा। हमारे महान वैज्ञानिक ने वक्त के साथ-साथ नये-नये अविष्कार किये, ये सारा क्रेडिट उस महान वैज्ञानिक को जाता है, जो हमारे लिए एक अच्छा साधन का अविष्कार जो हमारे लिए आजकल बहुत ही उपयोगी वस्तु बन गया है। चलिए दोस्तों हम विस्तार से जानते है, प्राचीन कंप्यूटर के बारे में? – 

कंप्यूटर का इतिहास

आजकल कंप्यूटर मात्र गणना से भी कुछ और ज्यादा काम करते हैं। उदाहरण के लिए, ऑटोमैटिक टेलर मशीन (ATM) हमें संसार की लगभग किसी भी हिस्से से बैंकिंग लेन-देन की सुविधा प्रदान करती है। डिपार्टमेंटल स्टोर कंप्यूटर का उपयोग बिल बनाने और भंडारण का प्रबंध करने के लिए भी करते हैं।

इसके अलावा कंप्यूटर का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों में, जैसे एयर लाइंस, रेलवे स्टेशन, बैंकों में, स्कूल और कॉलेज में, सरकारी कामों में, व्यवसाय में सभी जगहों में अलग-अलग हिस्सो में कंप्यूटर का उपयोग हो रही है।

आखिरी ये सभी विभिन्न प्रकार की तकनीक आई कहां से? कंप्यूटर हमें कहां से मिला, कंप्यूटर को किसने बनाया? कंप्यूटर की प्रभाव तथा इसकी उपयोगिता को सही रूप में समझने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि इसकी विकास की गाथा को सबसे पहले जाननें का प्रयास करें,  इसके बारे में हम विभिन्न तरीके से जानेंगे।

प्रारंभिक गणना मशीनें –

 

Abacus - Computer Gyan Hindi
                                  Image Source – Wikipedia | Abacus

एबेकस (Abacus)

पुराने समय में गणना करने के लिए लोग अपने उंगलियों तथा हाथों की सहायता से कंकड़ों का उपयोग करते थे। अबेकस (Abacus) को पहला कंप्यूटर माना जाता है। इसको अविष्कार 5000 वर्ष पहले हुआ था। तथा इसका उपयोग अभी भी होता है।

इसमें गणना करने की विधि मानकों के ऊपर – नीचे करके संपन्न होती है तथा यह मानकों एक रैंक में व्यस्थित होते हैं।
इस डिवाइस का मुख्य उद्देश्य गणना करना होता था। यह एक आयताकार फ्रेम का बना होता है, जिसमें स्ट्रिंग लगी रहती थी। प्रत्येक स्ट्रिंग में मनके लगे होते हैं। इन मनकों का उपयोग गणना करने के लिए किया जाता है।

 

                            Image Source – Wikipedia | Pascaline

पास्कलाइन (Pascaline)

जब कागज और कलम का इस्तेमाल बढ़ा तो गणना करने की विधियों में और सुधार हुई। सन 1642 में ब्लैज पास्कल नामक व्यक्ति ने एक संख्यात्मक व्हील कैलकुलेटर का आविष्कार किया।  जिसे पास्कलाइन कहा जाता है।

यह पीतल का आयताकार बॉक्स आठ अक्षरों लंबी संख्याओं को जोड़ने के लिए चलनशील डायाल इस्तेमाल करता था। पास्कलाइन की कमी यह थी कि यह उपकरण केवल जोड़ने तक ही सीमित रहता है। गॉटफ्राइड विलहैम वॉन लेबनिज नाम के व्यक्ति ने पास्कलाइन में संशोधन किया तथा ऐसी मशीन बनाई जो न केवल छोड़ने, बल्कि गुणा करने में भी सक्षम थी।

एरिथोमीटर (Erythometer)

बाद में थॉमस ऑफ कॉलमर ने पास्कलाइन को और संशोधित किया तथा एक व्यावसायिक केलकुलेटर डिजाइन किया, जिसे एरिथोमीटर नाम से जाना गया। एरिथोमीटर मैं सभी तरह के मूल अंकगणितीय कार्य किए जा सकते थे जैसे जोड़ना, घटाना, गुणा तथा भाग करना।

 

                    Image Source – Wikipedia | Analytical Engine

एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine)

कंप्यूटर की वास्तविक शुरुआत गणित के अंग्रेजी मूल के प्रोफेसर चार्ल्स बैबेज से मानी जाती है। इस अंग्रेज गणितज्ञ को कंप्यूटर का जनक कहा जाता है। उन्होंने डिफरेंशियल इंजन (Differential Engine) बनाया, जो सभी तरह की गणनाएं कर सकता था। बाद में उन्होंने एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine) बनाया। जो जटिल गणितीय गणनाएं करने में समर्थ था।

Punch Card - Computer gyan hindi
                                      Image Source – Wikipedia | Punched card

पंच कार्ड (Punched Card)

कंप्यूटर का अलग मॉडल था पंच कार्ड (Punched Card) हाॅलीरिथ ने एक मशीन का आविष्कार किया, जिसमें पंच कार्ड के रूप में सूचनाएं संग्रहित रहती हैं। कार्ड पर किया जाने वाला प्रत्येक पंच एक नंबर को व्यक्त करता था। पंच कार्ड का उपयोग करते हुए संकलन पहले अपनाई  गई विधियों के मुकाबले बहुत तेज था। तेज गति के अलावा पंच कार्ड्स के जरिए डेटा के संग्रह की भी गुंजाइश थी।

Conclusion :- 

तो दोस्तों इस पेज में आपको About ancient computers in hindi | प्राचीन कंप्यूटर के बारे में? के बारे में बेहतर ढंग से समझाने की कोशिश किये है। मैं आशा करता हूँ की आपको About ancient computers in hindi | प्राचीन कंप्यूटर के बारे में? के बारे में अच्छे से जानकारी हो गयी होगी।

अगर आपको इसी तरह की जानकारी चाहिए तो आप हमे Comment Box में अपनी राय प्रस्तुत कर सकते है और ज्यादा जानकारी के लिए हमसे फेसबुक और टेलीग्राम में भी जुड़ सकते हैं।

Join Us –

इन्हें भी पढ़े –

Leave a Comment

%d bloggers like this: