History of the Development of Computers | कंप्यूटर के विकास का इतिहास

कंप्यूटर के विकास का इतिहास

History of the Development of Computers - computer gyan hindi

History of the Development of Computers

History of the Development of Computers:- तो कैसे हो आप सभी लोग, आज हम आपको कंप्यूटर के विकास का इतिहास History of the Development of Computers के बारे में बताने जा रहे है, जैसे की आप लोगो को पता ही होगा की हमारे इस दुनिया में बहुत से इसे महान वैज्ञानिक लोग जन्म लिए जो हमारी इस दुनिया के टेक्नोलॉजी की एक नई शुरुआत कर दी है, आज हम आपको इसे महान वैज्ञानिक के बारे में बतायंगे जो कंप्यूटर की दुनिया में एक नई क्रांति का जन्म हुआ और यह सिर्फ उन महान वैज्ञानिकों के कारण संभव हुआ जो आज हम कंप्यूटर का उपयोग कर रहे है।

अबेकस (Abacus) 

शुरुआत के दौर में, कोई कंप्यूटर सिस्टम नहीं थे। जोड़ने या घटाने के लिए, मनुष्य ने अपनी उंगलियों और पैर की उंगलियों का उपयोग किया करते थे। कंप्यूटर का विकास क्रम 3000 वर्ष पुराना है। अबेकस को प्राथमिक यांत्रिक गणना प्रणाली माना जाता है, जो सबसे पहले चीन ने अबेकस का अविष्कार किया था। अबेकस का मुख्य उद्देश्य यह था कि जोड़ और घटाव को जल्दी से जल्दी पूरा किया जा सके। अबेकस को 10 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में मिस्रियों द्वारा विकसित किया गया था, लेकिन अंतिम संरचना 12 वीं शताब्दी में चीनी शिक्षाविदों द्वारा दी गई थी। अबेकस एक फ्रेम से बना होता है, जिसके द्वारा छड़ पर फिसलते हुए गोल मोतियों के साथ छड़ें भर दी जाती हैं, जिससे इसकी सहायता से किसी भी चीज को गणना करने के लिए आसान हो गया।

वननेवर बुश (Vannevar Bush)

वननेवर बुश ने 1930 में एक यंत्रवत् संचालित उपकरण बनाया, जिसे विभेदक विश्लेषक कहा जाता है, यह पहला सामान्य-प्रयोजन एनालॉग कंप्यूटर था।

कॉनराड ज़्यूस (Conrad Zuse)

कॉनराड ज़्यूस ने 1943 में Z3 का निर्माण किया, जो पूरी तरह से ऑपरेशनल इलेक्ट्रोकेमिकल कंप्यूटर था।

कोलोसस (Colossus)

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान, ब्रिटिश कोडब्रेकर्स के लिए कोलोसस ने विकसित किया गया था यह पहला प्रोग्रामेबल इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर था।

जॉन नेपियर (John Napier)

जॉन नेपियर द्वारा आविष्कार किए गए एबाकस में नेपियर की हड्डियां। नेपियर ने गिनती के उद्देश्य के लिए हड्डी की छड़ का उपयोग किया जहां नंबर उन पर मुद्रित किए गए थे। इन छड़ों की मदद से, जोड़, घटाव, गुणन और विभाजन की गति बढ़ सकती है।

ब्लेज़ पास्कल (Blaise Pascal)

ब्लेज़ पास्कल एक फ्रांसीसी वैज्ञानिक थे उन्होंने पास्कल के कैलकुलेटर नामक एक ऐडिंग मशीन का आविष्कार वर्ष 1642 में किया था। जो इसमें गियर की मदद से अंकों की स्थिति का प्रतिनिधित्व करता है इसमें पुराने टेलीफोन की तरह डायल पैड होते थे, जिन पर 0 से 9 संख्याएं प्रदर्शित होते थे और इसे पास्कल के कैलकुलेटर को ‘पास्कलीन’ कहा जाता है, हालांकि ये मशीनें कंप्यूटर इंजीनियरिंग के शुरुआती अग्रदूत थे, लेकिन कैलकुलेटर एक बड़ी व्यावसायिक सफलता पाने में विफल रहा।

जॉन अटानासॉफ (John Atanasoff)

जॉन अटानासॉफ ने 1939 में पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटिंग डिवाइस का निर्माण किया। यह प्रोटोटाइप का एक पूर्ण पैमाने पर संस्करण 1942 में Iowa State of University में पूरा हुआ।

लीबनिज कैलकुलेटर (Leibniz Calculator)

लिबनीज को सफलतापूर्वक 1646 में बाजार में एक कैलकुलेटर के रूप में पेश किया गया था। इसे 1673 में अतिरिक्त रूप से डिजाइन किया गया था, लेकिन इसे पूरा करने के लिए 1694 तक का समय लगा। कैलकुलेटर बुनियादी गणितीय क्रियाओं जैसे कि जोड़, घटाना, गुणा और भाग कर सकता है। पहियों को सही कोणों पर रखा गया था जो संभवतः एक विशेष कदम तंत्र द्वारा विस्थापित किया जा सकता था।

हावर्ड ऐकेन (Howard Aiken)

हावर्ड ऐकेन ने 1944 में हार्वर्ड में पूरा किया गया Mark I यह एक कम्प्यूटरीकृत अनुक्रम प्रबंधित कैलकुलेटर, रोबोटिक रूप से लंबी गणना को निष्पादित करने वाली प्राथमिक मशीन थी, जबकि प्राथमिक ऑल-उद्देश्य डिजिटल कंप्यूटर ENIAC (डिजिटल न्यूमेरिकल इंटीग्रेटर और कैलकुलेटर) जो सैकड़ों में गणना करने का उपयोग करता था। 1946 में पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय में वैक्यूम ट्यूबों का निर्माण किया गया।

विश्लेषणात्मक इंजन “पहला कंप्यूटर” (Analytical Engine “The first Computer”)

यह विश्लेषणात्मक इंजन, पहली पूरी तरह से स्वचालित गणना मशीन, ब्रिटिश कंप्यूटिंग अग्रणी चार्ल्स बैबेज (1791-1871) द्वारा बनाया गया था, जिन्होंने पहली बार 1812 में गणितीय तालिकाओं की गणना और प्रिंट करने के लिए एक उन्नत गणना मशीन के विचार की कल्पना की थी।

इस विश्लेषणात्मक इंजन में एक अंकगणितीय तर्क इकाई, सशर्त ब्रांचिंग और लूप के रूप में नियंत्रण प्रवाह और एकीकृत मेमोरी को शामिल किया गया। जिससे यह सामान्य प्रयोजन के कंप्यूटर के लिए पहला डिज़ाइन बना। जिसे आधुनिक शब्दों में ट्यूरिंग-पूर्ण के रूप में वर्णित किया जा सकता है।

डिजिटल कंप्यूटर का विकास अबैकस और प्रारंभिक यांत्रिक गणना उपकरणों में निहित है, चार्ल्स बैबेज को 1830 के दौरान पहले आधुनिक कंप्यूटर, विश्लेषणात्मक इंजन के डिजाइन का श्रेय दिया जाता है।

लेडी एडा आगस्टा (Lady Ada Augusta)

लेडी एडा आगस्टा ने एनालिटिक इंजन में पहला प्रोग्राम डाला था। इसलिए उन्हें दुनिया का प्रथम प्रोग्रामर भी कहा जाता है। और उन्होंने 2 अंकों की Binary System का भी अविष्कार किया था।

चार्ल्स बैबेज (Charles Babbage)

ब्रिटिश के महान गणितज्ञ चार्ल्स बैबेज ने 1822 में डिफरेंस इंजन का आविष्कार किया था। जो भाप से चलता था। इसका उपयोग गणना करने के लिए किया जाता था।

हर्मन होलेरिथ (Herman hollerith) 

सेंसेस टेबुलेटिंग मशीन एक इलेक्ट्रोमैकेनिकल मशीन था। इसका आविष्कार हर्मन होलेरिथ ने 1890 में अमेरिका में किया था। इसका उपयोग अमेरिकी जनगणना के लिए किया गया।

इन्होंने पंच कार्ड का भी अविष्कार किया था। जिसे कंप्यूटर के अनुप्रयोग के लिए मेमोरी के रूप में उपयोग होता था।

पंचकार्ड एक कागज का बना एक कार्ड है, जिसे पंच की सहायता से कार्ड को छेद करके कंप्यूटर की डाटा तथा प्रोग्रामों को स्टोर किया जाता था। पंचकार्ड रीडर द्वारा पंचकार्ड में स्टोर डाटा तथा प्रोग्रामों को पढ़ा जाता था।

पंच कार्डों में संग्रहीत जानकारी को संक्षेप में प्रस्तुत करने में सहायता के लिए बनाया गया था।

मार्क-I (Mark-I)

सन 1937 से 1944 के बीच आईबीएम (IBM) कंपनी की सहायता से वैज्ञानिक हावर्ड आईकेन के द्वारा विश्व की प्रथम विद्युत यांत्रिक गणना यंत्र का आविष्कार किया गया। इसे मार्क-I नाम दिया गया।

ए.बी.सी. (ABC)

क्लिफोर्ड बेरी और जॉन एटनासाँफ ने 1939 में आपस में मिलकर दुनिया का पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटर का आविष्कार किया। और इन्हीं के नाम पर इसे एटनासाँफ बेरी कंप्यूटर (ए.बी.सी) का नाम दिया गया।

UNIVAC (यूनिवर्सल ऑटोमैटिक कंप्यूटर)

1951 में समान सुविधा वाले संख्यात्मक और वर्णनात्मक डेटा को संभालने वाला पहला कंप्यूटर बन गया। यह एक व्यवसाय और सरकारी उपयोग के लिए यह एक  पहला व्यापक रूप से बेचा गया व्यावसायिक कंप्यूटर था।

Conclusion :- 

तो दोस्तों इस पेज में आपको History of the Development of Computers के बारे में बेहतर ढंग से समझाने की कोशिश किये है। मैं आशा करता हूँ की आपको History of the Development of Computers के बारे में अच्छे से जानकारी हो गयी होगी।

अगर आपको इसी तरह की जानकरी चाहिए तो आप हमे Comment Box में अपनी राय प्रस्तुत कर सकते है और ज्यादा जानकारी के लिए हमसे फेसबुक और टेलीग्राम में भी जुड़ सकते हैं।

Join Us:-

इन्हें भी पढ़े –

 

Leave a Comment

%d bloggers like this: